9 C
New Delhi
Monday, January 25, 2021

कोरोना के नए रूप से डरना नहीं है! एम्‍स डायरेक्‍टर बोले- हर महीने दो बार म्‍यूटेट होता है वायरस

दिल्‍ली एम्‍स के डायरेक्‍टर डॉ रणदीप गुलेरिया का कहना है कि कोविड-19 के नए स्‍ट्रेन्‍स को लेकर बेवजह चिंता नहीं करनी चाहिए। उन्‍होंने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस कई बार म्‍यूटेट हो चुका है, हर महीने औसतन दो बार। टीओआई से बातचीत में गुलेरिया ने कहा, “म्‍यूटेशंस की वजह से लक्षणों और इलाज की रणनीति में कोई बदलाव नहीं आया है। वर्तमान डेटा के अनुसार, ट्रायल फेज की वैक्‍सीन (जिन्‍हें इमर्जेंसी अथॅराइजेशन मिलना है) नए (यूके) स्‍ट्रेन पर भी असरदार होनी चाहिए।”

गुलेरिया ने कहा क‍ि भारत के लिए कोविड से लड़ाई में अगले छह-आठ हफ्ते बेहद अहम हैं क्‍योंकि मामले और मौतें, दोनों घट रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि यूके वाले स्‍ट्रेन को लेकर इतना अलर्ट केवल इसलिए हुआ क्‍योंकि म्‍यूटेटेड वायरस ज्‍यादा संक्रामक था। उन्‍होंने कहा, “इसकी वजह से अस्‍पताल में और ज्‍यादा वक्‍त नहीं रहना पड़ता। ना ही इसके चलते ज्‍यादा मौतें होती हैं। पिछले 10 महीनों के दौरान कई म्‍यूटेशंस हुए हैं और यह बेहद आम है।”

New Corona Strains: कोरोना के नए रूप कितने खतरनाक? वैक्‍सीन से खत्‍म होंगे या नहीं? जानिए हर सवाल का जवाब

‘वायरस म्‍यूटेशन का वैक्‍सीन पर असर नहीं’


एम्‍स डायरेक्‍टर ने इस संभावना को नकार दिया कि म्‍यूटेशंस का असर वैक्‍सीन पर होगा। उन्‍होंने कहा, “अगर जरूरत पड़ी तो मैनुफैक्‍चरर्स वैक्‍सीन में बदलाव कर उसे वायरस में आए बड़े परिवर्तन के खिलाफ प्रभावी बना सकते हैं। अभी, वायरस में कोई बड़ा बदलाव नहीं दिखाई देता। तो मुझे नहीं लगता कि हमें वैक्‍सीन में कोई बदलाव करने की जरूरत है।”

भारत में इंटरनैशनल फ्लाइट्स जारी रखने को लेकर गुलेरिया ने कहा कि अगर इन्‍हें शुरू किया जाता है तो यह सुनिश्चित होना चाहिए कि भारत आकर पॉजिटिव टेस्‍ट होने वाले कम से कम 10% लोगों की जीन सीक्‍वेंसिंग की जाए। अभी छह-सात लैबोरेटरीज में जीन सीक्‍वेंसिंग हो रही है। गुलेरिया ने कहा कि हम देश आधारित म्‍यूटेशन डेटा भारत की लैबोरेटरीज को देने की सोच रहे हैं।

‘जुलाई तक देश में आ जाएंगी 6-7 वैक्‍सीन’


दुनियाभर में 50 से ज्‍यादा वैक्‍सीन क्लिनिकल ट्रायल्‍स में हैं। गुलेरिया ने कहा कि भारत में अगले साल जुलाई तक छह-सात टीके उपलब्‍ध हो जाने चाहिए। पर्याप्‍त डेटा के साथ, लंबे समय तक टिकने वाली वैक्‍सीन भी डिवेलप की जा सकती है। गुलेरिया ने कहा, “अभी फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए वैक्‍सीन मुफ्त होगी और केंद्र सरकार उसका खर्च वहन करेगी।” कोविड-19 के खिलाफ हर्ड इम्‍युनिटी की संभावनाओं पर गुलेरिया ने कहा कि राज्‍यों में और सीरोलॉजिकल सर्वे कराने की योजना है ताकि ये पता चल सके कि कितने लोगों में वायरस के प्रति ऐंटीबॉडीज डिवेलप हो चुकी हैं।

Latest news

दिल्ली में होगा कमाल, देश में पहली बार जमीन में 8 मीटर नीचे दौड़ेगी रैपिड रेल

Delhi Meerut Rapid Rail Metro: दिल्ली-मेरठ आरआरटीएस (रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम) कॉरिडोर पर आनंद विहार स्टेशन सबसे बड़ा इंटरचेंज हब तो होगा...
- Advertisement -

वैक्सीन भेजने पर ब्राजीली राष्ट्रपति ने हनुमान जी की फोटो शेयर कर कहा धन्यवाद, पीएम मोदी ने दिया जवाब

कोरोना संक्रमण के संकट से निपटने के लिए दुनिया के अन्य देशों की मदद के लिए भारत आगे आया है। इसके मद्देनजर...

BBL 10: KXIP ने छोड़ा, अब आया मैक्सवेल के पास कौन सा मौका?

BBL 10 का रोमांच बढ़ता ही जा रहा है. पिछले दो दिनों में हमने मैदान पर दो बड़े शतक देखे हैं. ऐसे...

आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों के परिवार को सरकारी नौकरी देगी पंजाब सरकार

नए कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर किसान डटे हुए हैं. 22 जनवरी को 11वें दौर की वार्ता के बाद...

Related news

दिल्ली में होगा कमाल, देश में पहली बार जमीन में 8 मीटर नीचे दौड़ेगी रैपिड रेल

Delhi Meerut Rapid Rail Metro: दिल्ली-मेरठ आरआरटीएस (रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम) कॉरिडोर पर आनंद विहार स्टेशन सबसे बड़ा इंटरचेंज हब तो होगा...

वैक्सीन भेजने पर ब्राजीली राष्ट्रपति ने हनुमान जी की फोटो शेयर कर कहा धन्यवाद, पीएम मोदी ने दिया जवाब

कोरोना संक्रमण के संकट से निपटने के लिए दुनिया के अन्य देशों की मदद के लिए भारत आगे आया है। इसके मद्देनजर...

BBL 10: KXIP ने छोड़ा, अब आया मैक्सवेल के पास कौन सा मौका?

BBL 10 का रोमांच बढ़ता ही जा रहा है. पिछले दो दिनों में हमने मैदान पर दो बड़े शतक देखे हैं. ऐसे...

आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों के परिवार को सरकारी नौकरी देगी पंजाब सरकार

नए कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर किसान डटे हुए हैं. 22 जनवरी को 11वें दौर की वार्ता के बाद...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here